यूपी में कोरोना के अब  727 नये मामले, 14 जून से दूध,रिक्शा और चाट-खोमचों वालों को लगेगी वैक्सीन 

 
न

लखनऊ -उत्तर प्रदेश में करीब ढाई महीने के लंबे अंतराल के बाद पहली बार कोरोना के नये मामले एक हजार से कम हुये है। राज्य में पिछले 24 घंटे में 727 नये मामले सामने आये जबकि 2860 स्वस्थ हुये और 81 मरीजों की मौत हो गयी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को कहा कि प्रदेश सरकार की ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ की नीति कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में अत्यन्त सफल सिद्ध हो रही है। राज्य में कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर में कमी एवं रिकवरी दर में लगातार वृद्धि से कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों में कमी हो रही है। वर्तमान में संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 15,681 है। वर्तमान में रिकवरी दर बढ़कर 97.8 प्रतिशत हो गई है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर में भी निरंतर कमी देखी जा रही है। राज्य में पिछले 24 घण्टों में 2,80,220 कोविड टेस्ट किये गये हैं। इनमें कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर 0.3 प्रतिशत रही है। प्रदेश में अब तक कुल 05 करोड़ 16 लाख 22 हजार 903 कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं। इनमें पॉजिटिविटी दर 3.3 प्रतिशत रही है।

उन्होने कहा कि देश के अन्य राज्यों के सापेक्ष उत्तर प्रदेश में संक्रमण की स्थिति नियंत्रित है। यहां प्रतिदिन संक्रमण के नए मामलों की संख्या संक्रमण के उपचार के बाद डिस्चार्ज होने वाले मामलों की संख्या से काफी कम है। सहारनपुर में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 600 से कम हो गई है यहां मंगलवार को सुबह 07 बजे से आंशिक कोरोना कफ्र्यू में छूट दी जाए।

श्री योगी ने कहा कि जिन तीन जिलों में आंशिक कोरोना कर्फ्यू लागू है, वहां इसका प्रभावी ढंग से पालन कराया जाए। जिन 72 जिलों में आंशिक कोरोना कर्फ्यू  में छूट दी जा रही है, वहां छूट की अवधि में कोरोना गाइडलाइंस का पूरी तरह पालन कराया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि घर से बाहर निकलने वाले लोग मास्क का इस्तेमाल और दो-गज की दूरी का पालन करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निर्बाध गति से चल रहा है। राज्य में अभी तक दो करोड़ से भी अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज एडमिनिस्टर की जा चुकी हैं। आज से सभी जिलों में महिला स्पेशल कोरोना वैक्सीनेशन बूथ प्रारम्भ किए गए हैं। 14 जून से अपने दिन-प्रतिदिन के कार्य के क्रम में आम जनता के सर्वाधिक सीधे सम्पर्क में आने वाले कामगारों यथा रिक्शा, ई-रिक्शा, थ्री व्हीलर चालक, दूध विक्रेता, ठेला एवं खोमचे वाले दुकानदारों आदि के कोरोना वैक्सीनेशन का विशेष प्रबन्ध किया जाएगा।

उन्होने कहा कि हेल्थ वर्कर्स तथा कोरोना वाॅरियर्स के कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य प्राथमिकता के आधार पर प्रथम चरण में सम्पन्न किया गया था। वैक्सीन का प्रथम डोज प्राप्त करने वाले कोरोना वाॅरियर्स तथा हेल्थ वर्कर्स के सापेक्ष द्वितीय डोज लेने वाले हेल्थ वर्कर्स तथा कोरोना वाॅरियर्स की संख्या कम है। इसके कारणों का पता लगाकर अभी तक वैक्सीन की दूसरी डोज न लेने वाले हेल्थ वर्कर्स तथा कोरोना वाॅरियर्स को द्वितीय डोज लेने के लिए प्रेरित किया जाए, जिससे कोरोना संक्रमण से उनकी पूरी तरह से सुरक्षा हो सके।

From around the web