पंचायत चुनाव: चक्रवार मतगणना जारी, जीतने का सिलसिला शुरु, सोशल मीडिया पर मिलने लगी बधाई

 
पंचायत चुनाव: चक्रवार मतगणना जारी, जीतने का सिलसिला शुरु, सोशल मीडिया पर मिलने लगी बधाई

वाराणसी। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में रविवार को जिले के आठों ब्लॉकों में कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना जारी है। आठों ब्लॉकों में कुल 101 न्याय पंचायत के 404 टेबल पर मतों की गिनती चक्रवार चल रही है।

  चुनाव में जिला पंचायत सदस्य के लिए 554, बीडीसी के लिए 4509 और प्रधान के लिए 4321 प्रत्याशियों समेत कुल 10749 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला देर शाम तक हो जायेगा। इसमें जिला पंचायत सदस्य के 40, प्रधान के 692, बीडीसी के 986, ग्राम पंचायत सदस्य के 1327 पदों पर विजेता प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी। 

 मतगणना के दौरान अपराह्न बाद परिणाम आना शुरू हो गया। जिले में सेवापुरी विकास खंड के लेड़ुवाई गांव से आनंद कुमार गुप्ता सबसे पहले निर्वाचित घोषित किये गये। इसी क्रम में पिंडरा ब्लॉक के करेमुवा ग्राम सभा का परिणाम आया। अनुसूचित जाति सीट पर करेमुवा के अनिल कुमार ने अमित कुमार को 79 वोटों से हराया। इसके बाद चिउरापुर से विपिन सिंह, औराव से अनिल चौबे व उदपुर से जयप्रकाश सिंह उर्फ जेपी ने जीत हासिल की। 

 इसी क्रम में कर्मी गांव की रेखा देवी ने अपने प्रतिद्वंद्वी को 3 मतों से हराकर जीत हासिल की। कर्मी के बीडीसी प्रत्याशी प्रियंका ने 2 वोटों से जीत हासिल की। हरहुआ ब्लाक के भैठौली ग्राम पंचायत से रष्मिता सिंह प्रधान बन गईं। रष्मिता सिंह ने 425 मत पाकर नीतू सिंह को 24 वोटों से हराया। नीतू 401 मत पाकर दूसरे स्थान पर रहीं। हरहुआ के अहिरान में लुट्टुर प्रधान पद पर विजेता घोषित हुए हैं।

 हरहुआ के अहिरान में अक्षय लाल यादव बीडीसी सदस्य निर्वाचित घोषित हुए हैं। इसी क्रम में बड़ागांव के निन्दनपुर ग्राम सभा में प्रधान पद पर सुधीर कुमार 439 वोट पाकर अपने निकटतम प्रत्याशी महेंद्र को 270 मतों से हराया। बड़ागांव के कैथोली में प्रधान पद पर वंशप्रकाश 414  विजयी। अश्विन (404) को हराया। ताड़ी ग्राम सभा में प्रधान पद पर शहजाद आलम 322 विजयी। रामजियावन (235) को हराया।

इसके पहले सभी ब्लाकों में कोरोना प्रोटोकाल का पालन कर पुलिस की मौजूदगी में स्ट्रांग रूम खोलने के साथ मतपेटियां निकालकर मतगणना स्थल पर लाई गई। स्ट्रांग रूम से मतगणना स्थल तक मतपेटियों को लाने के लिए अलग से रास्ते बनाए गए थे। आठों ब्लाकों पर मतगणना स्थल पर प्रवेश करने से पहले प्रत्याशियाें और उनके एजेंट की एंटीजन जांच किया गया। 

 इसके लिए आठों ब्लाक के प्रवेश गेट के पास चिकित्सा विभाग की ओर से जांच टीम लगाई गई थी। मतगणना स्थल पर प्रत्याशी और उनके एजेंट सुबह पांच बजे ही पहुंचने लगे। सभी प्रवेश गेट के पास चिकित्सकीय टीम से जांच कराने के लिए लाइन में लग गए। मतगणना में मतदान कार्मिकों ने हर ब्लाक पर स्ट्रांग रूम से मतपेटी लाने के बाद मतगणना स्थल पर बैलेट पेपर का बंडल बनाने के बाद गिनती शुरू किया। मतगणना स्थल पर जाली से बैरिकेटिंग कर ली गई है।

 सुरक्षा कर्मियों के साथ चिकित्सा हेल्प डेस्क के लिए अलग से स्थान बनाए गए हैं। यहां चिकित्सक के साथ दवाएं भी है। जिससे जरूरत पड़ने पर तत्काल उपलब्ध कराया जा सके। इमरजेंसी के लिए एंबुलेंस भी मौजूद है। प्रति मतगणना टेबल पर एक पर्यवेक्षक और चार मतगणना सहायक की तैनाती की गई है। मतगणना के दौरान जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट भी सक्रिय है।

From around the web