कानपुर में जीआरपी व आरपीएफ के हत्थे चढ़ा रेलवे का फर्जी टीटीई गिरोह 

 
1

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में फर्जी टीटीई का बड़ा गिरोह जीआरपी व आरपीएफ के हत्थे चढ़ा है। गिरोह के एक दर्जन से अधिक शातिरों को पकड़ कर पूछताछ जारी है। पूछताछ के आधार पर जीआरपी व आरपीएफ संयुक्त रुप से दोपहर बाद पूरे प्रकरण का खुलासा किए जाने की बात कह रही है। पकड़ गए आरोपियों से रेलवे में नौकरी लगवाने ने नाम पर लोगों से ठगी करने की बात सामने आ रही है।

कानपुर सेन्ट्रल स्टेशन पर गुरुवार को अचानक उस वक्त सरगर्मी बढ़ गई जब​ रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) व राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) के जवानों की संयुक्त टीम को आज बड़ी कामयाबी मिली है। टीम ने फर्जी टीटीई गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए एक दर्जन से अधिक जालसाजोंं को पकड़ा है। जीआरपी के एक कर्मी की माने तो, पकड़े ​गए गिरोह के सदस्य काफी शातिर हैं और पूछताछ में बार-बार बयान बदलने के साथ ही गुमराह कर रहे हैं। इनके कब्जे से दर्जनों टीटीई के आई कार्ड के साथ फर्जी ज्वाइंनिंग लेटर, मोहरें व अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं।

पुख्ता जानकारी के मुताबिक, पकड़े गए फर्जी टीटीई गिरोह में करीब 15 से 16 जालसाज पकड़े गए हैं और उनके द्वारा रेलवे में नौकरी दिलवाने के नाम भी कई लोगों से ठगी किए जाने का मामला भी प्रकाश में आया है। बताया जा रहा है कि पकड़ा गया गिरोह अन्तरराज्यीय स्तर पर पूरा नेटवर्क चलता था और लोगों को रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर फंसाकर ठगी करता था। वहीं गिरोह के चंगुल में आकर ठगी का शिकार बने पीड़ित भी जीआरपी थाने में मौजूद हैं और गहन पूछताछ व जांच जारी है। प्रकरण में फिलहाल मीडिया को जल्द पूरे मामले की जानकारी दिए जाने की बात कही जा रही है।

इस मामले में जीआरपी इंस्पेक्टर अजीत कुमार सिंह व आरपीएफ थाना प्रभारी पीके ओझा सहित अन्य कर्मी गहन पूछताछ कर रहे हैं। पकड़े गए गिरोह के बारे में अभी कुछ भी बताने को लेकर यह सभी बच रहे हैं। वहीं फर्जी टीटीई व नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह को लेकर जीआरपी क्षेत्राधिकारी कमरुल हसन ने बताया कि कुछ लोग पकड़े गए हैं उनसे पूछताछ जारी है। जांच व पर्याप्त साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। पूरे प्रकरण का कुछ समय में खुलासा किया जाएगा। फर्जी टीटीई गिरोह के पकड़े जाने के मामले को लेकर सेन्ट्रल स्टेशन पर स्थित जीआरपी थाने में गहमागहमी का माहौल फिलहाल बना हुआ है।


 

From around the web