मां शाकुंभरी देवी मेले का होगा आयोजन, प्रशासन ने शुरु की तैयारियां, मेला गुलाल के आयोजन पर लगी रोक

 
1

सहारनपुर। सहारनपुर जिले में मेलों के आयोजन को लेकर भाजपा के मेयर संजीव वालिया और भाजपा के ही जिला पंचायत अध्यक्ष मांगेराम चौधरी की मेलों के आयोजन को लेकर अलग-अलग सोच और नीति है। जिला पंचायत अध्यक्ष मांगेराम चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित बोर्ड की बैठक में मां शाकुंभरी देवी क्षेत्र में छह अक्टूबर से भव्य मेले के आयोजन का फैसला लिया गया। जिसकी तैयारियों के लिए जिलाधिकारी अखिलेश सिंह की अध्यक्षता में पुलिस-प्रशासन के अफसरों की बैठक हुई। बैठक में तय किया गया कि शाकुंभरी देवी मेले का आयोजन कोविड गाइड लाईंस के तहत किया जाएगा। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए मेला स्थल पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे और ड्रोन कैमरे से मेले की व्यवस्था पर निगरानी रखी जाएगी। विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि मेले के आयोजन के दौरान 24 सौ घंटे बिजली की आपूर्ति की जाएं। देवी मंदिर तक जाने वाली सड़कों की तत्काल मरम्मत की जाएं। पानी की आपूर्ति और सफाई का खास ध्यान रखा जाएं। बैठक में एसएसपी डा. एस चनप्पा, सीडीओ विजय कुमार, एसपी सिटी राजेश कुमार, जिला पंचायत की अपर मुख्य अधिकारी सुमन लता और एसडीएम बेहट दीप्ति देव यादव मौजूद रहे। दूसरी ओर मेजर संजीव वालिया और नगरायुक्त ज्ञानेद्र सिंह ने आज बताया कि 16 सितंबर से सहारनपुर की गुग्गापीर की म्हाडी पर छडि़यों का तो पूजन किया जाएगा। लेकिन निगम ने इस बार मेले का आयोजन पिछले वर्ष की भांति रद्द कर दिया। मेयर संजीव वालिया ने कहा कि कोविड के कारण वह मेले के आयोजन का कोई जोखिम लेने का तैयार नहीं हैं। सहारनपुर के मेले में बहुत ही भीड़-भाड़ रहती है। जबकि शाकुंभरी देवी मेले का आयोजन शुद्ध धार्मिक है और वहां श्रद्धालु बराबर आते-जाते रहते हैं। नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन ने भी गुघाल मेले के आयोजन अपनी सहमति नहीं दी है। जाहरवीर गोगा जी महाराज की छडि़यों का पूजन जिला, नगर और कस्बों में श्रद्धा के साथ किया जा रहा है। देवबंद के देवी कुंड स्थित महाड़ी पर भी इस वर्ष मेले का आयोजन नहीं होगा। एसडीएम राकेश कुमार सिंह ने बताया कि कोरोना के चलते मेले का आयोजन नहीं होगा। श्रद्धालु प्रसाद और निशान चढ़ाने महाड़ी पर जरूर जा सकेंगे। उसकी पूरी व्यवस्था की जाएगी। लोगों को कोविड के नियमों का पालन करना होगा।

From around the web