इटावा में मुठभेड़ में छह तस्कर गिरफ्तार, करोड़ों का गांजा बरामद 

 
1
इटावा। थाना कोतवाली और क्राइम ब्रांच टीम ने संयुक्त अभियान चलाकर मुठभेड़ में अन्तरराज्यीय गिरोह के छह तस्करों को धर दबोचा। इनके पास से पांच कुंतल दस किलो गांजा समेत एक लग्जरी कार, एक कैंटर दो तमंचे और दो जिंदा और दो खोखा कारतूस बरामद हुए हैं। गिरफ्तार तस्कर उड़ीसा से गांजा लाकर उप्र के कई जनपदों में सप्लाई करते थे। एसएसपी ने तस्करों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को पच्चीस हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. बृजेश कुमार सिंह ने शुक्रवार को बताया कि गुरुवार को देर शाम थाना कोतवाली पुलिस और क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम टीटी चौकी तिराहा पर वाहन चेकिंग कर रही थी। तभी सूचना मिली कि कुछ व्यक्ति एक आयशर कैंटर और एक नीले रंग की अर्टिगा गाड़ी से तस्करी के लिए गांजा लेकर आ रहे हैं और उनके पास अवैध हथियार भी है। 
सूचना पर पुलिस ने इलाके में बैरिकेडिंग कर वाहन चेकिंग शुरू कर दिया। तभी एक नीले रंग की कार और एक आयशर कैंटर आता हुआ दिखाई दिया। जिसे पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो गाड़ियों को न रोकते हुए भगाने का प्रयास किया, जिसे पुलिस टीम ने आवश्यक बल का प्रयोग करते हुए पीछा कर घेर लिया। अपने आपको घिरा देखकर कार में सवार व्यक्तियों ने पुलिस टीम पर फायर शुरु कर दिया। जिसमें पुलिसकर्मी बाल-बाल बचे। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए दोनों वाहनों में सवार छह बदमाशों को धर दबोचा। 
गिरफ्तार व्यक्तियों ने पूंछतांछ करने पर बताया कि सभी लोग मिलकर अन्य राज्यों से जैसे उड़ीसा से गांजा सस्ती कीमत पर खरीदकर अधिक कीमत पर बेचकर ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाते हैं। आज हम गांजा उड़ीसा से आगरा व आसपास के अन्य जनपदों में बेचने के लिए लेकर जा रहे थे। बताया कि पुलिस को गुमराह करने के उद्देश्य से कैंटर पर डाक पार्सल लिखवा रखा है और अर्टिगा गाड़ी से हम लोग रास्तों में रेकी करते हैं। 
गिरफ्तार तस्करों ने अपना नाम अमित पुत्र महेश निवासी गाड़ीपुरा थाना कोतवाली इटावा, रविन्द्र कुमार उर्फ रवि पुत्र रघुवीर निवासी खिरारी थाना राया मथुरा, मनवीर पुत्र धर्मवीर निवासी मथुरा, दिनेश निवासी मथुरा, रमाकांत निवासी मथुरा, पवन पुत्र देवीचरन निवासी मथुरा बताया है।
एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार सभी तस्करों का आपराधिक इतिहास काफी लम्बा है। यह लोग इससे पहले भी कई बार जेल जा चुके हैं। सभी तस्करों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है। तस्करों से बरामद गांजा और गाड़ियों की कीमत एक करोड़ रुपये की आंकी गयी है।   

 

From around the web