उप्र पंचायत चुनाव: धीरे-धीरे आ रहे नतीजे, मतगणना केंद्रों पर रात में भी जमा रही भीड़, सोमवार दोपहर तक आएंगे सभी परिणाम

-मतगणना कर्मियों के पॉजिटिव पाए जाने से सुस्त हुई वोटों के गिनती की रफ्तार

-देर रात तक 1,12,358 ग्राम पंचायत सदस्य, 16510 प्रधान और 35,812 बीडीसी सदस्यों के आए नतीजे

 
उप्र पंचायत चुनाव: धीरे-धीरे आ रहे नतीजे, मतगणना केंद्रों पर रात में भी जमा रही भीड़, सोमवार दोपहर तक आएंगे सभी परिणाम

लखनऊ, -।  उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना राज्य के सभी 75 जिलों में रविवार सुबह आठ बजे से ही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोविड प्रोटोकाल के बीच जारी है। चुनाव परिणाम भी रविवार दोपहर बाद ही आने लगे थे, लेकिन रात में वोटों के गिनती की रफ्तार सुस्त हो गई। इससे नतीजे विलंब से घोषित हो रहे हैं। फिर भी मतगणना केंद्रों पर रात में भी उम्मीदवारों और उनके समर्थकों की भारी भीड़ जमा है।

अधिकतर मतगणना केंद्रों पर वोटों के गिनती की सुस्त रफ्तार को देखते हुए इस बात का अंदाजा लगाया जा रहा है कि मतगणना तीसरे शिफ्ट में भी जारी रह सकती है। ऐसे में सोमवार दोपहर बाद ही सभी परिणामों के घोषणा की उम्मीद है। 

मतगणना कर्मियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से सुस्त हुई मतगणना की रफ्तार

 देर रात विभिन्न जिलों से मिली जानकारी के अनुसार कई मतगणना केंद्रों पर वोटों की गिनती के लिए लगाए गए कुछ कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए हैं। ऐसे में मतगणना का कार्य विशेषकर रात के समय दूसरी शिफ्ट में प्रभावित हुआ है। 

गोरखपुर जिले के खोराबार ब्लाक में मतगणना के लिए 112 कर्मचारी लगाए गए थे। लेकिन, उनमें से कुछ कोरोना पॉजिटिव मिले और 37 लोग अनुपस्थित मिले। इस तरह वहां दूसरी शिफ्ट की मतगणना काफी प्रभावित हुई। ऐसी ही स्थिति कई मतगणना केंद्रों पर देखने को मिली है। 

दरअसल राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर प्रत्येक मतगणना केंद्र पर मेडिकल हेल्थ डेस्क स्थापित की गई है। यहां कोरोना एंटीजन जांच की भी व्यवस्था है। जांच के दौरान कई जिलों में मतगणना कर्मी समेत करीब आठ सौ लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। संक्रमित लोगों में गोरखपुर के अलावा वाराणसी, बस्ती, प्रयागराज, कौशांबी, प्रतापगढ़ समेत कई जिलों के मतगणना कर्मी हैं। 

1,12,358 ग्राम पंचायत सदस्य, 16510 प्रधान और 35,812 बीडीसी सदस्यों के आए नतीजे

राज्य निर्वाचन आयोग के अनुसार रविवार देर रात तक 1,12,357 ग्राम पंचायत सदस्य, 16,510 ग्राम प्रधान और 35,812 क्षेत्र पंचायत (बीडीसी) सदस्य निर्वाचित हो चुके हैं। आयोग की विज्ञप्ति में बताया गया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में मतगणना जारी है। कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की जानकारी नहीं मिली है। सोमवार दोपहर बाद तक अंतिम परिणाम आने की संभावना है। 

मतगणना केंद्रों पर रात में भी जमा है भारी भीड़ 

प्रदेश में आठ सौ से अधिक मतगणना केंद्रों पर रविवार सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोविड प्रोटोकाल के बीच मतगणना प्रारम्भ हुई। हालांकि मेरठ, अयोध्या, बाराबंकी और उन्नाव समेत कुछ जिलों में वोटों की गिनती का काम विलंब से शुरू हुआ। कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग ने मतगणना केंद्रों के बाहर भीड़ इकट्ठा न होने का स्पष्ट निर्देश दिया है, फिर भी करीब हर मतगणना केंद्र पर दिन भर भारी भीड़ जमा रही। प्रयागराज और जौनपुर समेत कुछ जिलों के मतगणना स्थलों पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठियां भी भांजनी पड़ी। विभिन्न जिलों से हिन्दुस्थान समाचार के प्रतिनिधियों से मिली जानकारी के अनुसार रात के समय भी मतगणना स्थलों पर लोग भारी संख्या में डटे रहे। 

चार चरणों में हुआ था मतदान

प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए चार चरणों में 15, 19, 26 और 29 अप्रैल को मतदान हुआ था। प्रथम चरण में 18 जिलों में वोट डाले गये थे और वोट का प्रतिशत 71 था। वहीं दूसरे चरण में 20 जिलों के 72 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। तीसरे चरण के लिए प्रदेश के 20 जिलों में कुल 73.5 प्रतिशत और चतुर्थ व अंतिम चरण में 17 जिलों में 75.38 फीसदी मतदान हुआ था। इस चुनाव में जिला पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम पंचायत सदस्य पदों के लिए वोट पड़े थे। चुनाव में कुल 12,89,830 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होना है। 

From around the web