पीएम मोदी के रुद्राक्ष को लेकर सियासत हुई गर्म, सपा-कांग्रेस ने किया प्रदर्शन, दिया अल्टीमेटम 

 
न
वाराणसी,। जापान भारत की दोस्ती की बड़ी मिसाल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट, रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर को लेकर उनके संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सियासत उबाल मार रही है। कांग्रेस के बाद समाजवादी पार्टी ने भी रूद्राक्ष को लेकर सरकार पर हमला बोला है। रविवार को कन्वेंशन सेंटर के निकट धरना देकर पार्टी के पार्षदों ने रूद्राक्ष में नगर निगम सदन (मिनी सदन) चलाने की मांग की। 
पार्षद हारून अंसारी और प्रशान्त सिंह पिंकू ने कहा कि जहां 'रुद्राक्ष' बनाया गया है। वहां पर पहले नगर निगम का प्रेक्षागृह हुआ करता था। इसी प्रेक्षागृह में पार्षदों और नगर निगम कार्यकारिणी द्वारा संचालित होने वाली बैठक आहूत की जाती थी। लेकिन जब प्रेक्षागृह टूटा तो यह आश्वासन दिया गया कि 'रुद्राक्ष' बनने के बाद उसके अंदर ही सदन की कार्रवाई की जाएगी। लेकिन बनने के बाद 'रूद्राक्ष' का निजीकरण किया जा रहा है। पार्टी कार्यकर्ताओं ने धरना के बाद प्रधानमंत्री को सम्बोधित मांगों का ज्ञापन एसीएम को सौंपा। 
इसके पहले शनिवार को कांग्रेस के पार्षदों ने भी रूद्राक्ष में मिनी सदन चलाने की मांग कर प्रदर्शन किया था। कांग्रेस पार्षद दल ने नगर निगम प्रशासन को सोमवार तक का समय भी दिया है। पार्षदों ने चेताया कि प्रशासन सोमवार तक अपनी स्थिति स्पष्ट करे। नहीं तो कांग्रेस पार्षद-दल, जिला और महानगर कमेटी के कार्यकर्ता कन्वेंशन सेंटर के बाहर धरना-प्रदर्शन करेंगे। कांग्रेस पार्षद दल का कहना है कि गत जुलाई 2018 में नगर निगम सदन और प्रेक्षागृह तोड़कर रुद्राक्ष का निर्माण शुरु कराया गया था। उस समय पार्षदों के विरोध पर जिला प्रशासन ने कहा था कि इसमें सदन का निर्माण भी कराया जाएगा। लेकिन 15 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रुद्राक्ष का उद्घाटन किया गया। जिसमें विपक्षी दल के किसी पार्षदो तक  को भी आमंत्रित नहीं किया गया। नगर निगम की इस सम्पत्ति का निजीकरण किया जा रहा है। 

From around the web