योगी ने वाराणसी के हाथी बाजार सीएचसी को लिया गोद, सरकारी अमला व्यवस्था सुधारने में जुटा 

 
न

वाराणसी- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को गोद लिया है। सेवापुरी ब्लॉक के हाथी बाजार की सीएचसी को योगी के गोद लेने से आसपास के गॉव के लोगों में काफ़ी खुशी है। इस अस्पताल के कायाकल्प के लिए सरकारी अमला तेजी से जुट गया है।

आधिकारिक सूत्रो ने मंगलवार को बताया कि अगले डेढ़ महीने में आदर्श सीएचसी के रूप में ये अस्पताल सेवाएं देने लगेगा। मुख्यमंत्री ने 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी सीएचसी हाथी बाज़ार के लिए उपलब्ध कराए हैं। ये सीएचसी रेफ़रल अस्पताल भी होगा। पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों से अस्पतालों को गोद लेने की अपील भी की थी।

स्वास्थ्य विभाग की रीढ़ माने जाने वाली गॉव के स्वास्थ केंद्रों को दुरुस्त करने के लिए खुद योगी आदित्यनाथ ने क़दम आगे बढ़ाया है। मॉडल ब्लॉक सेवापुरी के सीएचसी हाथी बाज़ार को योगी आदित्यनाथ ने गोद ले लिया है। सरकार ने इस सीएचसी में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का काम शुरू कर दिया है। बेड़ो की संख्या बढ़ाने के लिए भी बिल्डिंग बनाने की तैयारी शुरू हो गई है।

ज़िलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि सीएचसी हाथी बाजार काफी महत्वपूर्ण अस्पताल है। इस क्षेत्र की स्वास्थ व्यवस्थाओं की जरूरतों को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उदाहरण प्रस्तुत कर जिले में पहले सीएचसी हाथी बाजार को गोद लिया है। उन्होंने बताया कि आमतौर पर सीएचसी 30 बेड के होते हैं लेकिन यहां पर मात्र 15 से 20 बेड है। बेड़ो की संख्या बढ़ाने का काम शुरू हो चुका है।

उन्होने बताया की डॉक्टर समेत सभी पैरामेडिकल स्टॉफ को बढ़ाया जा रहा है। इसके लिए नए विज्ञापन निकाले जाएंगे। इस सीएचसी के स्टाफ़ जो कहीं और ड्यूटी पर लगाए गए है। उनको भी मुक्त किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि यदि तीसरी वेब आएगी तो बच्चों का भी यहां इलाज हो सकेगा । इस सीएचसी में लेवल -2 के भी दो बेड़ो की सुविधा रहेगी । कोविड के बाद भी ये सुविधा आम जनमानस के लिए उपलब्ध रहेगी। हाथी बाज़ार सीएचसी अब एफ़आरयू (फस्ट रेफरल यूनिट) अस्पताल हो जाएगा ।

From around the web