Thursday, June 6, 2024

उप्र में दो दिन बाद बदलेगा मौसम, धूल भरी आंधी के साथ पड़ेंगी बौछारें

कानपुर। सूरज की आग उगलती लपटें और आर्द्रता में भीषण कमी से मौसम इस कदर शुष्क हो गया है कि गर्मी सीधे लोगों के दिल पर लग रही है। इससे लोग बिलबिला उठे और दोपहर में तो सड़कों पर सन्नाटा पड़ा रहा। यही नहीं देर शाम तक गर्म हवाएं लोगों को परेशान कर रही हैं। मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर प्रदेश में दो दिन बाद मौसम बदलेगा और धूल भरी आंधी के साथ स्थानीय स्तर पर बौछारें पड़ने की संभावना है। हालांकि इससे लोगों को गर्मी से बहुत अधिक राहत नहीं मिलने वाली है।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. एस एन सुनील पाण्डेय ने शुक्रवार को बताया कि मध्य अरब सागर के कुछ और हिस्सों, दक्षिण अरब सागर के शेष हिस्सों, लक्षद्वीप और केरल, कर्नाटक के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु के कुछ और हिस्सों, दक्षिण-पश्चिम और मध्य बंगाल की खाड़ी, उत्तर-पूर्व बंगाल की खाड़ी के शेष हिस्सों, असम और मेघालय, और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम के कुछ हिस्सों में अगले दो दिनों के दौरान मानसून की शुरुआत के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल हो रही हैं।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

उत्तर-पूर्व असम और आसपास के क्षेत्रों पर चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊपर तक फैला हुआ है। पश्चिमी विक्षोभ को जम्मू और आसपास के क्षेत्रों पर चक्रवाती परिसंचरण के रूप में देखा जा रहा है। उत्तर-पश्चिम उत्तर प्रदेश पर 1.5 किलोमीटर तक फैला हुआ एक चक्रवाती परिसंचरण है।

उत्तर-पश्चिम उत्तर प्रदेश पर चक्रवाती परिसंचरण से एक द्रोणिका दक्षिण-पूर्व उत्तर प्रदेश, दक्षिण बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और निचले स्तरों पर सिक्किम होते हुए पश्चिमी बांग्लादेश तक फैली हुई है। पश्चिम मध्य अरब ओमान तट पर 1.5 से 4.5 किलोमीटर के बीच एक चक्रवाती परिसंचरण है।

दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत पर 8° उत्तरी अक्षांश के पास एक विंड शेयर जोन क्षेत्र समुद्र तल से 3.1 से 4.5 किलोमीटर ऊपर तक फैला हुआ है। केरल तट के पास दक्षिण-पूर्व अरब सागर पर एक चक्रवाती परिसंचरण है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में बंगाल की खाड़ी से नम हवाएं आ रही हैं और राजस्थान के थार मरुस्थल से गर्म हवाएं आ रही हैं। इन दोनों हवाओं के मिलने से आगामी दो दिन आसमान में बादल छाएंगे और इन बादलों में टकराहट होने से मेघ गर्जन भी होगी। इसके साथ ही तेज धूल भरी आंधी के साथ स्थानीय स्तर पर बौछारें पड़ेंगी।

उन्होंने बताया कि कानपुर में अधिकतम तापमान 46.2 और न्यूनतम तापमान 27.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह की सापेक्षिक आर्द्रता 35 और दोपहर की सापेक्षिक आर्द्रता 16 प्रतिशत रही। हवाओं की दिशाएं उत्तर पश्चिम रहीं जिनकी औसत गति 5.9 किमी प्रति घंटा रही। मौसम पूर्वानुमान के अनुसार अगले पांच दिनों में हल्के बादल छाए रहने के कारण 2 से 5 जून के मध्य तेज हवाओं, धूल भरी आंधी एवं गरज चमक के साथ स्थानीय स्तर पर हल्की वर्षा होने की संभावना है। इसके अलावा दिन और रात के तापमान सामान्य से अधिक रहने के आसार हैं।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,188FansLike
5,329FollowersFollow
53,342SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय