Wednesday, July 24, 2024

शामली में सैकड़ो की संख्या में ग्रामीणों ने विद्युत विभाग के कार्यालय पर किया हंगामा प्रदर्शन, वसूली करने के लगाए आरोप

 

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

 

शामली। जनपद के कई गाव के रहने वाले सैंकडो ग्रामीणों ने विद्युत विभाग के जिला ऑफिस पर जमकर धरना प्रदर्शन करते हुए अधिकारियों को बंधक बनाया और चेतावनी दी कि चार या पांच दिन में बिलों के ठीक ना होने के चलते भारतीय किसान यूनियन अराजनेतिक संगठन उग्र आंदोलन करेगा। ग्रामीणों ने लाइनमेंन,जेई पर भी गाँव वालो से वसूली करते हुए लाखो रुपये लेने का आरोप लगाया है।

आपको बता दें कि बीते महीने में जहा विधुत विभाग के द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में लगाये गये मिटर रीडर न दर्जनों से ज्यादा गाव के रहने वाले लोगो के बिल गलत निकले है। जहां ग्रामीणो ओर किसानों के मीटर रीडर ने लाखों रुपये से ज्यादा रुपयों के बिल निकालकर ग्रामीण को सोपे है। जहा इस बात से कुरमाली, क़ाबडोत, लिशाड , किवाना , बरलाजट, गोहरपुर आदि गाव में रहने वाले ग्रामीणो में हड़कंप मचा हुआ है। जहा अब इस बात को लेकर भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक संगठन ने आपत्ति जताते हुए विरोध प्रदर्शन किया है।

 

जिसके चलते भाकियू अराजनैतिक संगठन के पदाधिकारियो ने सैकड़ो ग्रामीणों के साथ मिलकर गठवाला खाप चोधरी राजेंद्र मलिक बाबा के नेतृत्व में विधुत विभाग के अधिकारी अधिशासी अभियंता के ऑफिस पर प्रदर्शन करते हुए एक दिवसीय धरना दिया और अधिकारियों को बंधक बनाकर अपने धरने में बैठाए रखा,ओर चेतावनी देते हुआ कहा कि आप के विभाग के ग्रामीण क्षेत्र के जेई, लाइन मेन ओर मीटर रीडर सभी ने मिलकर अपना गेंग बनकर काम कर रहे है और बिजली का बिल जायदा देते है और फिर उसको ठीक करने के नाम पर 40 से 60 हजार रुपये तक वसूल करते है।

 

वही किवाना कुरमाली के जेई पर जानबूझ कर लाखो रुपये का बिल भिजवाने का लगाया है, जहा फिर वो बिल ठीक करने पर मात्र 2 या 3 महीने में करीब कई लाख रुपये वसूल करने का आरोप लगाया है। वही खाप चोधरी बाबा राजेन्द्र ने धमकी दी है, कि अगर 5 दिन में बिल ठीक नही हुए तो बिजली विभाग के ऑफिस पर उग्र आंदोलन होगा और गाव में जाने वाले जेई ओर लाइनमैन के साथ कुछ भी हो सकता है। उसकी जिम्मेदारी उनकी खुद की होगी।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,098FansLike
5,348FollowersFollow
70,109SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय