Wednesday, May 29, 2024

वकीलों को उपभोक्ता संरक्षण कानून के दायरे में नहीं लाया जा सकता- सुप्रीम कोर्ट

मुज़फ्फर नगर लोकसभा सीट से आप किसे सांसद चुनना चाहते हैं |

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि वकीलों को उपभोक्ता संरक्षण कानून के दायरे में नहीं लाया जा सकता है। मंगलवार को जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि प्रोफेशनल्स को अलग तरीके से देखा जाना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय उपभोक्ता कोर्ट के एक फैसले को निरस्त करते हुए कहा कि वकीलों को उपभोक्ता संरक्षण कानून की धारा 2(ओ) के तहत उसकी सेवा में कमी का दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि किसी प्रोफेशनल के लिए उच्चस्तरीय शिक्षा, स्किल और मानसिक श्रम की जरूरत होती है।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

 

 

किसी प्रोफेशनल की सफलता के कई कारक होते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने डॉक्टरों को उपभोक्ता संरक्षण आयोग के अधीन लाने वाले इंडियन मेडिकल एसोसिएशन बनाम वीपी शांतना के फैसले पर दोबारा विचार करने की जरूरत बताई। कोर्ट ने कहा कि प्रोफेशनल्स का काम व्यापार और व्यवसाय से अलग होता है। कोर्ट ने कहा कि वकीलों के व्यवसाय को भी दूसरे व्यवसाय की तरह नहीं माना जा सकता है।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,188FansLike
5,319FollowersFollow
51,845SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय