Wednesday, February 21, 2024

इंडिया गठबंधन को झटका, भाजपा ने चंडीगढ़ में मेयर पद बरकरार रखा

चंडीगढ़। इंडिया ब्लॉक के कांग्रेस-आप गठबंधन को एक बड़ा झटका देते हुए नगर निकाय में सत्तारूढ़ भाजपा ने मंगलवार को केवल चार वोटों से जीत हासिल कर लगातार नौवीं बार चंडीगढ़ मेयर की सीट बरकरार रखी।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

सबसे ज्यादा पार्षद होने के बावजूद आप-कांग्रेस गठबंधन यह सीट हार गया।

कांग्रेस और आप पार्षदों ने पीठासीन अधिकारी पर धांधली करने और उचित चुनावी प्रक्रिया का पालन नहीं करने का आरोप लगाया। मेयर चुनाव का विवाद एक बार फिर हाई कोर्ट पहुंच गया है और सुनवाई बुधवार को होने की संभावना है।

पीठासीन प्राधिकारी अनिल मसीह, एक नामांकित पार्षद, ने 36 में से आठ वोटों को अवैध घोषित कर दिया, जिनके पास वोटिंग का अधिकार नहीं था। भाजपा को 16 वोट मिले, जबकि आप-कांग्रेस गठबंधन को 12 वोट मिले, जबकि उनके पास 20 पार्षद थे।

बीजेपी के मनोज सोनकर ने आप-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार कुलदीप टीटा को हराया.

मेयर चुनाव के बाद कांग्रेस और आप दोनों ने सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के चुनाव का बहिष्कार किया. भाजपा के कुलजीत सिंह और राजिंदर शर्मा ने क्रमशः वरिष्ठ उप महापौर और उप महापौर पद पर जीत हासिल की।

नगर निगम के 35 सदस्यीय सदन में, भाजपा के पास 14 पार्षद हैं, जिसमें संसद सदस्य और पदेन सदस्य किरण खेर का एक और वोट है। आप के पास 13 पार्षद हैं, जबकि कांग्रेस के पास सात हैं। सदन में शिरोमणि अकाली दल का एक पार्षद है।

हंगामा बीजेपी का मेयर चुने जाने के बाद हुआ.

सभी 36 वोट पड़े, जिनमें स्थानीय सांसद किरण खेर का वोट भी शामिल था, जिन्‍होंने सबसे पहले वोट डाला था।

जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, “इंडिया गठबंधन ने अपनी पहली चुनावी लड़ाई लड़ी और भाजपा से हार गया, यह दर्शाता है कि न तो उनका अंकगणित काम कर रहा है और न ही उनकी केमिस्ट्री काम कर रही है।”

आप सांसद राघव चड्ढा ने यहां मीडिया से कहा, “चंडीगढ़ मेयर चुनाव के दौरान हमने जो कुछ भी देखा, वह न केवल असंवैधानिक है, बल्कि देशद्रोह भी है…चंडीगढ़ मेयर चुनाव में हमने जो अवैधता देखी, उसे केवल देशद्रोह ही कहा जा सकता है।”

उन्होंने मांग की कि पीठासीन प्राधिकारी पर चुनावी धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया जाना चाहिए और उच्च न्यायालय की निगरानी में दोबारा चुनाव कराने की मांग की।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता पवन बंसल के साथ मौजूद चड्ढा ने मीडिया से कहा, “इससे पता चलता है कि भाजपा मेयर चुनाव के लिए जब सभी गैरकानूनी हथकंडे अपना सकती है तो वह लोकसभा चुनाव के दौरान अपना नुकसान देखते ऐसा ही करेेेगी। क्या भाजपा इस देश को उत्तर कोरिया बनाना चाहती है?”

आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने नतीजों को बेईमानी करार दिया। उन्होंने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, ” चंडीगढ़ मेयर चुनाव में जिस तरह से दिनदहाड़े बेईमानी की गई है, वह बेहद चिंताजनक है। अगर ये लोग मेयर के चुनाव में इतना नीचे गिर सकते हैं तो देश के चुनाव में किसी भी हद तक जा सकते हैं। यह देश के लिए बहुत चिंताजनक है।”

कांग्रेस के पूर्व सांसद और केंद्रीय मंत्री बंसल ने कहा कि पहली बार चंडीगढ़ मेयर चुनाव में 36 में से आठ वोट अवैध घोषित किए गए, यानी 25 फीसदी वोट अवैध घोषित कर दिए गए।

“कांग्रेस और आप गठबंधन को 20 वोट मिलने थे। हमें 12 वोट मिले और आठ अवैध घोषित कर दिए गए। मगर भाजपा का एक भी वोट अवैध घोषित नहीं किया गया।”

बंसल ने कहा कि कांग्रेस और आप एजेंटों को मतपत्र तक पहुंच नहीं दी गई। उन्‍होंने कहा, “पीठासीन अधिकारी, जिसे मैं कहूंगा कि वह एक छिछला व्यक्ति है, को भाजपा उम्मीदवार को विजेता घोषित करने का स्पष्ट निर्देश दिया गया था।”

शुरुआत में 18 जनवरी को होने वाला चुनाव पीठासीन अधिकारी के बीमार पड़ने के बाद 6 फरवरी तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। स्थगन को लेकर विपक्षी पार्षदों के पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में जाने के बाद अदालत ने निर्देश दिया कि चुनाव 30 जनवरी को कराया जाए।

जनवरी 2023 में 29 वोट पड़े थे, जिसमें भाजपा के अनूप गुप्ता ने आम आदमी पार्टी के जसबीर सिंह लाडी को सिर्फ एक वोट से हराकर मेयर का चुनाव जीता था। गुप्ता को 15, जबकि सिंह को 14 वोट मिले थे। कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल ने मतदान में भाग नहीं लिया था।

साल 2022 में भी विभिन्न कारणों से एक वोट अवैध घोषित होने के बाद भाजपा उम्मीदवार सिर्फ एक वोट से जीत गए थे।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,381FansLike
5,290FollowersFollow
41,443SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय