Monday, May 27, 2024

मुजफ्फरनगर में सीओ दफ्तर के सामने ग्रामीण ने आत्मदाह का प्रयास किया, पत्नी के हत्यारों की गिरफ्तारी न होने से था क्षुब्ध

मुज़फ्फर नगर लोकसभा सीट से आप किसे सांसद चुनना चाहते हैं |

बुढ़ाना। तहसील परिसर में सीओ कार्यालय के सामने मंदवाडा के ग्रामीण ने आत्मदाह का प्रयास किया। ग्रामीण की पत्नी की अपहरण के बाद सहारनपुर के देवबंद में हत्या हुई थी। एसएसपी के आदेश पर ग्राम प्रधान समेत पांच के विरुद्ध मुकदमा दर्ज हुआ था। पुलिस ने एक आरोपित को जेल भेजा था। ग्रामीण का आरोप है कि पुलिस ग्राम प्रधान और अन्य आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही है। आरोपित उसे व परिवार को धमकी दे रहे है।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

गांव मंदवाड़ा निवासी फरमूद पत्नी के हत्यारोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सीओ गजेंद्र पाल सिंह से मिलने पहुंचा था। उसने सीओ से वार्ता में कहा कि एक आरोपित राशिद को पुलिस जेल भेज चुकी है। अन्य आरोपियों पर पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। सीओ ने कहा था कि मामले में अभी जांच चल रही है। इस पर पीड़ित ने कार्यालय से बाहर निकलकर ज्वलनशील पदार्थ शरीर पर उड़ेल लिया। इस दौरान सीओ कार्यालय के बाहर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे पकड़ लिया और माचिस आदि छीन ली।

कार्यालय पर मौजूद सीओ गजेंद्र पाल सिंह ने उसे अपनी कार से सीएचसी पर भर्ती करवाया। सीएचसी से चिकित्सा के बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया।

सीओ गजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि जनसुनवाई के दौरान फरमूद मिला था। कार्यालय से बाहर निकल उसने आत्मदाह का प्रयास किया। उसके विरुद्ध वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि क्षेत्र के गांव मंदवाडा निवासी फरमूद की पत्नी रेशमा के अचानक घर से गायब हो जाने पर 25 फरवरी को बुढ़ाना कोतवाली में गुमशुदगी में मुकदमा लिखा गया था। जिसके बाद 15 मार्च को देवबंद क्षेत्र में रेशमा का जला हुआ शव सड़ी गली अवस्था में मिला था। पुलिस ने फरमूद की तहरीर पर मंदवाडा ग्राम प्रधान फैज मौहम्मद, राशिद, अय्यूब, नौमान व शहनाज के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज किया था।

तीन दिन पूर्व पुलिस ने पुलिस लाइन में प्रेस वार्ता कर रेशमा की हत्या का खुलासा करते हुए बताया था कि रेशमा अवैध संबंधों के चलते प्रेमी राशिद निवासी सहारनपुर के गांव नूनाबड़ी को ब्लैकमेल कर रही थी, जिस कारण राशिद ने रेशमा की हत्या कर दी थी। जांच के बाद पुलिस ने अन्य आरोपियों के नाम मुकदमे से हटा दिए थे। रेशमा के पति फरमूद का आरोप है कि पुलिस ने जिन आरोपियों के नाम मुकदमे से हटा दिए थे, उनमें भी कुछ लोग हत्या में शामिल थे। उक्त आरोपी उसे फैसला नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दे रहे है।

सीओ ने बताया कि वादी के द्वारा आज उक्त अभियोग के संबंध में जनसुनवाई के दौरान कार्यलय पर आग लगाने का प्रयास किया गया,जिसे पुलिस टीम ने तत्परता दिखाते हुए रोका और उसे अस्पताल भिजवाया गया। वही इस व्यक्ति के द्वारा जो घटना कारित की गई है,उसके विरुद्ध भी कार्यवाही की जा रही है।

 

 

 

Related Articles

STAY CONNECTED

74,188FansLike
5,319FollowersFollow
51,314SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय