Thursday, July 18, 2024

इंडिया गठबंधन के नेताओं की हुई बैठक,संसद सत्र के लिए बनाई रणनीति

नयी दिल्ली- संसद सत्र के दौरान विपक्षी इंडिया गठबंधन की रणनीति को लेकर गठबंधन के घटकों के संसदीय दल के नेताओं की आज यहां बैठक हुई जिसमें संसद सत्र के लिए रणनीति बनाने पर विचार विमर्श किया गया।

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के आवास पर हुई बैठक में घटक के लगभग सभी दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया। बैठक में शामिल हुए नेताओं ने कहा कि इसमें विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई और तय किया गया कि गठबंधन के सभी दल एकजुटता के साथ और मजबूती से संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे और जनहित के मुद्दों को सदन में उठाएंगे।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

बैठक में तय हुआ कि  विपक्षी दल महंगाई, रेल हादसा, पेपर लीक व मणिपुर की हिंसा के मुद्दे पर लोकसभा और राज्यसभा में सरकार से जवाब मांगेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष के आवास पर हुई बैठक में राहुल गांधी, शरद पवार, डेरेक ओ ब्रायन, संजय राउत, संदीप पाठक समेत विभिन्न पार्टियों के नेता शामिल हुए।

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पिछले 5 वर्षों में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा कराए गए 66 भर्ती परीक्षाओं में कम से कम 12 में पेपर लीक और धांधली हुई है। इससे 75 लाख से अधिक युवा प्रभावित हुए हैं। रोजमर्रा की खान-पान की चीजों के दाम दिन-दोगुनी, रात-चौगुनी गति से बढ़ गए हैं। मणिपुर में 13 महीनों से लगातार हिंसा चल रही है। भीषण रेल दुर्घटना और ट्रेनों में यात्रियों की दुर्दशा हुई है। इंडिया गठबंधन के नेता इन्हीं मुद्दों को संसद की दोनों सदनों में उठाएंगे।

बैठक के उपरांत राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में इंडिया गठबंधन में शामिल सभी दलों के फ्लोर लीडर्स की बैठक में सम्मिलित हुआ। हम सभी एकजुटता के साथ सदन में जनता के मुद्दों एवं अधिकारों की लड़ाई लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं। वहीं, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का कहना है कि क्या भारत की संसद में ‘जय संविधान’ नहीं बोला जा सकता? संसद में सत्ता पक्ष के लोगों को असंसदीय और असंवैधानिक नारे लगाने से नहीं रोका गया, लेकिन विपक्षी सांसद के ‘जय संविधान’ बोलने पर आपत्ति जताई गई। चुनावों के दौरान सामने आया संविधान विरोध अब नए रूप में सामने है, ​जो हमारे संविधान को कमजोर करना चाहता है।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,098FansLike
5,348FollowersFollow
70,109SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय