Friday, July 19, 2024

राज्यसभा में आरएसएस पर खड़गे की टिप्पणी को लेकर नड्डा, सभापति ने जताई आपत्ति

नई दिल्ली। नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को राज्यसभा में आरएसएस के बारे में कुछ टिप्पणियां कीं, जिस पर सभापति जगदीप धनखड़ और सदन के नेता जे.पी. नड्डा ने आपत्ति जताई। कांग्रेस नेता ने अग्निपथ योजना समाप्त करने की मांग करते हुए कहा कि किसान का बेटा फौज में भर्ती होता है। इसके जवाब में सभापति जगदीप धनखड़ ने कहा कि आज किसान का बेटा वैज्ञानिक है, उद्योगपति है, उद्यमी है।

 

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि यह सरकार कैसी होगी, इसका पिछले एक महीने से अंदाजा लग रहा है। नीट पेपर लीक, यूजीसी नेट पेपर लीक, नीट पीजी परीक्षा रद्द, सीएसआईआर नेट रद्द, भीषण रेल दुर्घटना, जम्मू-कश्मीर में तीन बड़े आतंकी हमले, राम मंदिर में पानी लीक, देश में तीन हवाई अड्डों की छत टूटी, बिहार में पांच पुल टूटे, टोल टैक्स में बढ़ोतरी, रुपए में ऐतिहासिक गिरावट आई।

 

उन्होंने कहा कि अगर ऐसा ही होता रहा तो बच्चे आगे पढ़ाई नहीं करेंगे। देश में सात साल में 70 पेपर लीक हुए हैं। यह पूरी व्यवस्था पर सवाल है। यदि डिग्री को इज्जत देनी है तो ऐसे घपले-घोटाले बंद होने चाहिए। नहीं तो पूरी दुनिया में हमारी शिक्षा प्रणाली खतरे में पड़ जाएगी। लोग हर एक डिग्री को संदेह की नजर से देखेंगे। उन्होंने शिक्षण प्रणाली में आरएसएस के लोगों के ऊंचे पदों पर होने का मुद्दा उठाया जिसे सभापति ने सदन की कार्यवाही से हटा दिया।

 

सभापति ने कहा, “क्या किसी संस्था का हिस्सा होना अपराध है? आप कह रहे हैं कि एक संस्था ने कब्जा कर लिया, जो बिल्कुल गलत है।” आरएसएस को लेकर सभापति ने कहा कि यह एक संस्था है, राष्ट्र का कार्य कर रही है, राष्ट्रीय हित में कार्य कर रही है। देश और दुनिया में अपनी प्रतिभा साबित कर चुके लोग इसके लिए योगदान दे रहे हैं। दुनिया में सबसे ज्यादा आज के दिन उनमें योग्यता देख सकते हैं। खड़गे ने उत्तर में कहा कि उनकी विचारधारा खतरनाक है। साथ ही उन्होंने आरएसएस को लेकर अन्य बातें भी कही, जिन्हें कार्यवाही से निकाल दिया गया।

 

 

सदन के नेता जे.पी. नड्डा ने अपना विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने आरएसएस के बारे में जो वक्तव्य दिया है, वह बहुत ही गैर-जिम्मेदाराना है। उसे सदन की कार्यवाही से हटाया जाना चाहिए। इस पर सभापति ने कहा कि यह बातें कार्यवाही से निकाली जा चुकी हैं। सभापति ने मल्लिकार्जुन खड़गे से कहा कि आप जानबूझकर ऐसी संस्था पर आरोप लगा रहे हैं जो राष्ट्र के लिए कार्य कर रही है। नेता सदन जेपी नड्डा ने आरएसएस को लेकर दिए गए वक्तव्य पर नाराजगी जताते हुए कहा कि खड़गे का वक्तव्य निंदनीय है।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,098FansLike
5,348FollowersFollow
70,109SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय