Thursday, April 25, 2024

पीएम मोदी ने बिल गेट्स से कहा, भारत ने करोड़ों लोगों तक पहुंचाई एआई जैसी नई प्रौद्योगिकी

मुज़फ्फर नगर लोकसभा सीट से आप किसे सांसद चुनना चाहते हैं |

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि प्रौद्योगिकी का उद्देश्य समाज के सभी वर्गों के लोगों को सशक्त बनाना है और भारत ने विशेष रूप से देश के ग्रामीण हिस्सों में करोड़ों लोगों तक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) जैसी नई प्रौद्योगिकी को पहुंचाया है।

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स के साथ एक खास बातचीत में पीएम मोदी ने कहा कि उनके लिए प्रौद्योगिकी का सबसे अच्छा उपयोग स्वास्थ्य सेवा, कृषि और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में है।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

पीएम मोदी ने गेट्स से कहा, “हमने देश भर में 2 लाख ‘आयुष्मान आरोग्य मंदिर’ स्थापित किए हैं, जहां लोग आधुनिक तकनीक के उपयोग के साथ बेहतरीन अस्पतालों के चिकित्सा विशेषज्ञों से गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल प्राप्त कर सकते हैं।”

‘आयुष्मान आरोग्य मंदिर’ योजना का लक्ष्य शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में नागरिकों को व्यापक, सस्ती और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना है।

‘नमो ड्रोन दीदी’ और ‘लखपति दीदी’ योजना, ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के बीच आर्थिक सशक्तिकरण और वित्तीय स्वायत्तता को बढ़ावा देने के प्रधानमंत्री मोदी के दृष्टिकोण का अभिन्न अंग हैं।

पीएम मोदी ने कहा, “जब मैं ‘नमो ड्रोन दीदी’ योजना में शामिल महिलाओं से बात करता हूं, तो उन्हें बहुत खुशी होती है, अब वे खेतों में ड्रोन का उपयोग कर रही हैं और खेती करने के आधुनिक तरीके अपनाती हैं।”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि वह डिजिटल डिवाइड से लोगों को प्रभावित नहीं होने देंगे और भारत का डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर (डीपीआई) दुनिया के लिए एक शानदार उदाहरण है।

पीएम मोदी ने कहा, “मैं नई तकनीकों का उपयोग कर बच्चों को सर्वोत्तम शिक्षा देना चाहता हूं। हमें सभी के दैनिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए डिजिटल तकनीक को अपनाना चाहिए।”

गेट्स के साथ अपनी बातचीत के दौरान, पीएम मोदी ने एआई से लेकर डिजिटल प्रौद्योगिकी में भारत की प्रभावशाली प्रगति तक कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की।

उनकी बातचीत स्वास्थ्य सेवा में प्रौद्योगिकी की परिवर्तनकारी भूमिका पर केंद्रित थी, जिसमें ‘नारी शक्ति’ को सशक्त बनाने के लिए भारत के ड्रोन के अभिनव उपयोग को दर्शाया गया था।

उन्होंने स्वदेशी रूप से विकसित और उत्पादित टीकों के साथ कोविड-19 महामारी से निपटने में भारत की उल्लेखनीय सफलता का भी जिक्र किया, और महत्वपूर्ण स्वास्थ्य देखभाल समाधानों में देश की आत्मनिर्भरता पर प्रकाश डाला।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,237FansLike
5,309FollowersFollow
47,101SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय