Saturday, February 24, 2024

किसान मसीहा चौ. चरण सिंह को भारत रत्न मिलने से चहुंओर खुशी

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बालियान खाप के चौधरी नरेश टिकैत ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एवं किसान नेता स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह को मरणोपरांत भारत रत्न दिए जाने की घोषणा का स्वागत करते हुए देर से उठाया हुआ कदम बताया।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

 

चौधरी नरेश टिकैत ने कहा- चौधरी चरण सिंह ने भारत में किसान एवं मजदूर के जीवन स्तर को ऊपर उठने के लिए उल्लेखना कार्य किया था, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि देश में राजनीतिकरण के कारण उन्हें भारत रत्न मिलने में इतने वर्ष लगे। चौधरी नरेश टिकैत ने पूर्व प्रधानमंत्री  पीवी नरसिम्हा राव और कृषि वैज्ञानिक डॉ. एमएस स्वामीनाथन को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की घोषणा का भी स्वागत करते हुए कहा कि में देश के किसानों को इसके लिए बधाई देता हूं और केंद्र सरकार को इस निर्णय के लिए धन्यवाद देता हूं।

 

चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान सामने आया है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न सम्मान पर सरकार का धन्यवाद देते हुए कहा कि किसानों को फसल का दाम भी मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने से किसानों की नाराजगी खत्म नहीं होगी, हम राजनीतिक लोग नहीं हैं, जनता खुद तय करेगी वोट देना है या नहीं। जयंत के भाजपा में शामिल होने पर कहा कि राजनीतिक लोगों को जहां लाभ होगा वह वहीं जा रहे हैं।

 

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक राष्ट्रीय संयोजक चौ. यशपाल मलिक की अध्यक्षता में छोटूराम धाम जसिया में आयोजित हुई, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री चौ. चरणसिंह को भारत रत्न देने के लिए केंद्र सरकार का धन्यवाद देने के लिए प्रस्ताव पारित किया गया। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति काफी लंबे समय से चरण सिंह, राजा महेंद्र प्रताप और ताऊ देवीलाल को भारत रत्न देने की मांग कर रही थी। मीटिंग में फैंसला लिया गया कि केंद्र में आरक्षण के लिए धौलपुर, भरतपुर के लोग जो संघर्ष कर रहे है, हमारी समिति उनका पूर्ण समर्थन करती है। अगर आरक्षण के लिए सड़कों पर उतरना पड़ा तो उसके लिए भी हम तैयार है।

 

हम सरकार से मांग करते है, धौलपुर भरतपुर सहित देश के तमाम जाट समाज को केंद्र में आरक्षण दिया जाए। इस बैठक में जाट समाज को केंद्र व राज्यों में आरक्षण के लिए सरकार पर दबाव बनाने के लिए नई रूपरेखा पर लंबी चर्चा हुई। बैठक में फैसला लिया गया कि देश के तमाम महत्वपूर्ण खाप नेताओं, जाट संगठनों और सभी प्रमुख लोगो को 12 फरवरी को 11 बजे दीन बंधु सर छोटूराम धर्मशाला नांगलोई में एक मंच पर आने का निमंत्रण दिया जायेगा, उसी दिन सभी संगठनों के मुख्य पदाधिकारियों को एकजुट कर जाट आरक्षण के लिए एक संयुक्त कमेटी बनाई जाएगी। उसी दिन प्रेस कान्फ्रेस करके जाट आरक्षण संयुक्त कमेटी की तरफ से आगामी योजना का ऐलान कर दिया जायेगा।

 

 

बैठक में मुख्य रूप से राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रताप सिंह दहिया, छोटूराम धाम के चेयरमैन एडवोकेट रणधीर सिंह, राष्ट्रीय महासचिव बीएस अहलावत, दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष चौ. जय भगवान डबास, राष्ट्रीय महासचिव रोहताश हुड्डा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुमेर सिंह, हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष गंगाराम श्योराण, मुख्य सचिव एमएस मलिक, डा. धर्मवीर राठी, सुरेंद्र मलिक, बलवान सुंडा, राजकुमार मलिक, सतबीर डीपीई, प्रधान दयानंद देशवाल, आशीष फौजदार, नफे सिंह मान, हरज्ञान मलिक, कैप्टन रामकरण दलाल, रमेश कुंडू, सत्यप्रकाश गुलिया, रमेश सहरावत, विद्यानंद दादरी, भगत सिंह सहरावत, विजय मान, संदीप संसनवाल, जयबीर राणा, प्रदीप खत्री, भरत पंवार, नरेश शौकीन, रामकिशन कुंडू, रामकुमार टोकस, प्रधान पवन मान, युवा अध्यक्ष विजय मान, कुलदीप डबास, राजसिंह लाकड़ा आदि मौजूद थे।

 

चौधरी चरण सिंह एवं एमएस स्वामीनाथन को भारत रत्न देने का फैसला किसानों का सम्मान है। चौ. चरण सिंह सिंह जिन्हें किसान मसीहा की उपाधि से भी नवाजा गया, एक राजनेता जिनकी राजनैतिक विरासत सभी क्षेत्रों में फैली है। यह विरासत ही उन्हें भारत रत्न का असली हकदार बनाती है। उनके द्वारा कृषि क्षेत्र में क्रांति, सामाजिक न्याय, लोकतंत्र के मूल्यों की रक्षा के लिए जाना जाता है। एमएस स्वामीनाथन को हरित क्रांति का जनक कहा जाता है। भारत सरकार द्वारा गठित किसान आयोग के अध्यक्ष के नाते उनकी सिफारिश महत्वपूर्ण है। देशभर में हर किसान उनकी सिफारिश को लागू करने की मांग करते है, इन दोनों व्यक्तियों का कृषि क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान है। भारत सरकार एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने फैसले ने किसान कौम को जो सम्मान दिया है, उसके लिए भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक आभार व्यक्त किया।

 

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व किसान मसीहा चौधरी चरण सिंह को भारत सरकार द्वारा भारत रत्न देने की घोषणा करने पर सर्वसमाज के सम्मानित लोगों ने कृष्णपाल राठी पूर्व चैयरमैन के कूकड़ा स्थित आवास पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया और चौधरी चरण सिंह को श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर सरदार त्रिलोचन सिंह, ब्रजवीर सिंह, अमन रॉयल, सुधीर भारतीय, आशीष बालियान, आदेश तोमर, काजी सहीर आलम, विकास कादियान, प्रिंस चौधरी, सतीश प्रधान, बिजेंद्र सिंह, अनिल वर्मा, जयवीर ठाकरान, ध्रुव राठी, अंकित छाबड़ा, भगत सिंह आदि अनेक लोग उपस्थित रहे।

 

सरकार द्वारा किसान मसीहा व पूर्व प्रधानमंत्री चौ. चरणसिंह को भारत रत्न दिए जाने पर लोकदल कार्यकर्ताओं ने मिठाईयां बांटी तथा सरकार को धन्यवाद दिया। शुक्रवार को भारत सरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री किसान मसीहा चौधरी चरणसिंह को भारत रत्न की घोषणा करने पर लोकदल कार्यकर्ताओं व किसानों में खुशी की लहर दौड गई। विधान सभा प्रभारी डॉ. अमित ठाकरान के नेतृत्व में लोकदल कार्यकर्ताओं ने मोरना स्थित चौधरी चरणसिंह चौक पर किसान मसीहा की प्रतिमा पर फूलमाला पहनाकर मिठाइयां बांटी। डॉ. अमित ठाकरान ने कहा कि चौधरी चरणसिंह को भारत रत्न देने की मांग लोकदल वर्षों से करती आ रही थी। शुक्रवार को सरकार द्वारा किसान मसीहा चौधरी चरणसिंह को भारत रत्न दिए जाने पर लोकदल कार्यकर्ताओं सहित गरीब, मजदूर व किसान सभी के लिए खुशी का समय है।

 

 

चौधरी साहब ने हमेशा किसान, मजदूर व गरीब की आवाज को उठाया तथा उनके विकास के लिए अतुलनीय कार्य किये। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष संदीप मलिक, महामंडलेश्वर गोपालदास महाराज, संदीप गुर्जर, अजय पंवार, राजीव राठी, विकास मुखिया, नीशू कुमार, चौ. ब्रजवीर सिंह, नीरज राठी, अनुज गोयल आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,381FansLike
5,290FollowersFollow
41,443SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय