Thursday, May 30, 2024

विरासत से सियासत में आये अखिलेश यादव गर्मी से परेशान,बसपा को एक प्राइवेट कंपनी की तरह चलाती हैं मायावती-राकेश त्रिपाठी

मुज़फ्फर नगर लोकसभा सीट से आप किसे सांसद चुनना चाहते हैं |

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव चुनाव प्रचार में गर्मी से परेशान हैं। इसको लेकर सपा अध्यक्ष का बयान भी आया है। इस पर भाजपा ने चुटकी लेते हुए कहा कि वह विरासत से सियासत में आये है। एसी कमरे की आदत उन्हें पड़ गयी है।

 

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने एक्स पर लिखा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को गर्मी में चुनाव प्रचार करना बहुत मुश्किल हो रहा है। लम्बे समय से एसी के कमरे में बैठते-बैठते आज हालत यह हो गयी है कि गर्मी में प्रचार के लिए भाजपा को कोस रहे हैं। चुनाव का निर्णय तो निर्वाचन आयोग करता है लेकिन इसका ठीकरा भी भाजपा पर फोड़ रहे हैं। सच बात तो यह है कि अखिलेश यादव विरासत की सियासत से आये हैं। मुलायम सिंह यादव को कभी गर्मी नहीं लगती थी, क्योंकि मुलायम सिंह यादव संघर्ष से उपजे थे। लेकिन अखिलेश यादव एसी कमरे में पले बढ़े हुए हैं इसलिए वह बाहर नहीं निकलना चाहते क्योंकि इतनी गर्मी उन्हें लग रही है और इसके लिए वह भाजपा को कोस रहे हैं।

 

वही बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के द्वारा पार्टी नेता आकाश आनंद को पदमुक्त किए जाने पर भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने तंज कसा है। उन्होंने मायावती को एक प्राइवेट कंपनी की तरह पार्टी चलाने वाला बताया है।

भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने आकाश आनंद को पदमुक्त किए जाने पर बोले कि मायावती बसपा को प्राइवेट कंपनी की तरह चलाती हैं। मायावती मनचाहे निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं। आकाश आनंद अपने बयानों में जिस तरह से गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे थे। बीजेपी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर रहे थे, उससे जनता के बीच उनका भारी आक्रोश था। मायावती ने इस बात को महसूस किया और उन्होंने आकाश आनंद को सभी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि क्या मायावती परिवारवाद से मुक्त हो पाएंगी? मायावती ने बसपा के मिशन को कमीशन में बदला। क्या इस पर कोई बदलाव कर पाएंगी। किसी सामान्य दलित को वो पार्टी की कमान क्या दें पाएंगी, यह आने वाले समय में जरूर देखा जाएगा कि क्या मायावती परिवारवाद के मोह से मुक्त हो पाएंगी।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,188FansLike
5,319FollowersFollow
51,845SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय