Friday, March 1, 2024

अहिंसा शब्द संविधान की प्रस्तावना में शामिल करने की मांग

नयी दिल्ली। बीजू जनता दल के सस्मित पात्रा ने मंगलवार को राज्यसभा में कहा कि संविधान की प्रस्तावना में “अहिंसा” शब्द शामिल किया जाना चाहिए क्योंकि यह भारतीय संस्कृति का मूल है।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

पात्रा ने सदन में शून्य काल के दौरान “सभापति की अनुमति से उठाए गए मामले” के अंतर्गत कहा कि महात्मा गांधी का अहिंसा शब्द दुनिया भर में प्रचलित है और प्रभावित करता है। भारतीय संस्कृति के मूल में अहिंसा है। अहिंसा शब्द को संविधान की प्रस्तावना में शामिल करने के लिए ओडिशा विधानसभा ने एक प्रस्ताव पारित किया है और राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी इस संबंध में केंद्र सरकार को पत्र भेजा है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्धांजलि देने के लिए भी अहिंसा शब्द भारतीय संविधान के प्रस्तावना में शामिल होना चाहिए।

कांग्रेस के दिग्विजय सिंह ने आर्थिक रूप से कमजोर सवर्ण वर्ग के बच्चों लिए सरकारी नौकरियों में आरक्षण में आय और आयु सीमा में छूट देने की मांग की। भारतीय जनता पार्टी की सीमा द्विवेदी ने पत्रकारों को रेल यात्रा के किराए और टोल टैक्स में छूट देने की मांग की।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,381FansLike
5,290FollowersFollow
41,443SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय