Monday, June 17, 2024

खेत से घास लेने जा रहे तीन किशोरों की बैल-बुग्गी नदी में गिरी, एक किशोर की मौत, दो तैरकर बाहर निकले

जलालाबाद। मौहल्ला रामरतन मण्डी निवासी याकूब कुरैशी का इकलौता 17 वर्षीय पुत्र अब्दुल्ला अपने दो अन्य साथियों उवैस खान व हैदर कुरैशी के साथ सुबह करीब 9 बजे बैल बुग्गी लेकर खेत से घास लेने के लिए कृष्णा नदी के काले वाले घाट के रास्ते जा रहे थे।

नदी मे पानी का तेज़ प्रवाह था, पानी बम्बे से बने अस्थाई पुल के उपर से गुजर रहा था, जिसके चलते बैल बुग्गी का पहिया नदी में गिरने के चलते बुग्गी पलट गई, दोनों किशोर तो तैरकर बाहर आ गये, जबकि अब्दुल्ला व बैल बुग्गी पानी के तेज बहाव मे बह गये, दोनो के शोर मचाने पर पास के ही तालाब मे मछली पकड रहे युवक नदी की और भागे परन्तु तब तक अब्दुल्ला व बैल बुग्गी पानी में समा चुके थे।

Royal Bulletin के साथ जुड़ने के लिए अभी Like, Follow और Subscribe करें |

 

सूचना पर थानाध्यक्ष सतीश कुमार पुलिस प्रशासन के साथ मौके पर पहुच गये, परन्तु असहाय से स्थानीय लोगों के प्रयास को देखने के अलावा कुछ नहीं कर सके। घटना के कई घन्टे के बाद भी पेशेवर तैराकों की व्यवस्था नहीं हो सकी। स्थानीय मछुआरे डूबे किशोर की तलाश में निरन्तर जुटे रहे आखिकार दोपहर के समय घटना से कुछ दूरी पर अब्दुल्ला को नदी में काफी गहराई से ढूंढकर निकालने में उन्हें सफलता मिल गई। बाहर निकालकर तुरन्त ही उसे स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, परन्तु उसकी मौत हो चुकी थी।

नायब तहसीलदार रविंद्र कुमार, चेयरमैन जहीर मलिक व थाना अध्यक्ष के समझाने के बाद शव को पुलिस द्वारा पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। इकलौते पुत्र की मौत से परिवार मे कोहराम मचा है, चेयरमैन जहीर मलिक व समस्त सभासदों ने प्रशासन से बात कर गरीब परिवार को आर्थिक मदद के लिए भरोसा दिया है।

पेशावर गोताखोर नहीं पहुंचे: जलालाबाद की तर्जुमा मछुआरे और तेरा पानी में डूबे युवक अब्दुल्ला की तलाश के लिए अपनी जान की बाजी लगाकर लगातार पानी में गोते लगाते रहे। इस दौरान पुलिस व प्रशासन मूकदर्शक बना रहा। पुलिस द्वारा न ही तो पेशावर गोताखोरों की व्यवस्था की गई और न ही जाल डालकर युवक को जिंदा निकालने की कोशिश की गई। लगभग 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद स्थानीय मछुआरों और तैराकों ने लगभग 12 बजे पानी में डूबे युवक को ढूंढने में सफलता हासिल की।

बताया जाता है कि लगभग एक दर्जन स्थानीय मछुआरों और तैराकों ने पूरी नदी की एक साथ पांत भारी और एक छोर से दूसरे छोर की ओर युवक को ढूंढना शुरू किया। इसी दौरान एक मछुआरे मुतालिब रंगरेज के पैरों से डूबे हुए युवक अब्दुल्ला का शरीर टकराया और उसने अन्य साथियों की मदद से अब्दुल्ला को बाहर निकाला। स्थानीय मछुआरों और तैराकों ने जान की बाजी लगाकर डूबे हुए युवक को खोजा: पर्याप्त संसाधन न होने के बाद भी घटना का पता चलते ही जलालाबाद के स्थानीय मछुआरों और तैराकों ने अपनी जान की परवाह किए बगैर गंगा से छोड़े गए तेज पानी के बहाव में छलांग लगा दी और डूबे युवक की तलाश करने लगे। इस दौरान वार्ड नंबर 13 के सभासद रशिद मंसूरी शौकीन मंसूरी मोहसिन मंसूरी भूरा रंगरेज मुतालिब रंगरेज वारिस रंगरेज मोबिन रंगरेज नफीस रंगरेज इलियास रंगरेज और गुलशेर रंगरेज ने घंटे की मशक्कत के बाद पानी में डूबे युवक अब्दुल्ला को बाहर निकाल लिया। इस दौरान नगर पंचायत अध्यक्ष जहीर मलिक, पूर्व सभासद नदीम अली खान, नायब तहसीलदार रविंद्र कुमार थाना अध्यक्ष सतीश कुमार मौजूद रहे।

Related Articles

STAY CONNECTED

74,188FansLike
5,329FollowersFollow
60,365SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

सर्वाधिक लोकप्रिय