Sunday, June 4, 2023

मुज़फ्फरनगर में संजीव बालियान और कादिर राणा में बन रहे है ‘व्यापारिक रिश्ते’, केंद्रीय मंत्री की पत्नी सुनीता बालियान गयी थी राणा हाउस ?

मुजफ्फरनगर- तारीख 26 फरवरी 2023, स्थान -ग्राम कुतुबपुर जिला मुजफ्फरनगर।

- Advertisement -

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरविंद राज शर्मा का यह पैतृक गांव है। उस तारीख में अरविंद राज शर्मा के गांव में गृह प्रवेश का कार्यक्रम था, बुढ़ाना के पूर्व विधायक उमेश मलिक वहां काफी लोगों के बीच बैठे खाना खा रहे थे, तभी पूर्व सांसद कादिर राणा वहां पहुंचे, दुआ सलाम के बाद कादिर राणा ने कहा कि यदि तुमने 2 करोड़ रुपया खर्च कर दिया होता, बसपा से प्रत्याशी लड़वा लिया होता तो आज तुम विधायक होते ,जिस पर उमेश मलिक ने कहा कि उनके पास इतने पैसे नहीं थे, तो कादिर राणा ने हंसते हुए कहा कि यह तो झूठ बात है, मैं सांसद रहा हूं ,तुम विधायक रहे हो, मुझे पता है तुम्हारे पास भी कितने पैसे और मेरे पास भी कितने पैसे है ?, इसी हंसी मजाक के बीच यह टिप्पणी आयी कि 2024 में ये फार्मूला लागू करा देना, बात खत्म हो गई।

मुजफ्फरनगर में निकाय चुनाव के परिणाम आने के बाद यह चर्चा राजनीतिक गलियारों में बहुत आम है कि भारतीय जनता पार्टी को 2024 में भी जीत का रास्ता मिल गया है। सन 2000 में जिस तरह मुस्लिम इलाकों में ‘गुड़िया’ चली थी और पूर्व मंत्री चितरंजन स्वरूप, चेयरमैन का चुनाव बीजेपी प्रत्याशी जगदीश भाटिया से हार गए थे,उसी तरह इस बार के

मुज़फ्फरनगर शहर में ‘ब्राह्मणों’ ने किया तो ‘कैरेक्टर ढीला’, बाकी ने किया तो रासलीला, अपनी विधानसभा में ही बीजेपी की दुर्गति करा दी मंत्री जी ने !

- Advertisement -

निकाय चुनाव में ‘पतंग’ चली और पूर्व मंत्री चितरंजन स्वरूप के बेटे गौरव स्वरूप अपनी पत्नी मीनाक्षी स्वरुप को जिताने में सफल हो गए। इसी पर राजनीतिक इलाकों में चर्चा चल रही है कि 2024 में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी और  केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान ‘बसपा या पतंग’ से  किसी बड़े मुस्लिम चेहरे को उतारने की रणनीति बना रहे हैं, जिससे निकाय चुनाव जैसा फार्मूला सेट किया जा सके।

- Advertisement -

चर्चा के बीच यह भी सामने आया कि पूर्व सांसद कादिर राणा मुजफ्फरनगर और बिजनौर लोकसभा सीट से सपा रालोद गठबंधन से चुनाव लड़ना चाहते हैं, यदि उन्हें इन दोनों सीट पर टिकट नहीं मिला, तो वे मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट से बसपा के प्रत्याशी हो सकते हैं। इस चर्चा को उस समय और बल मिला, जब केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान की पत्नी सुनीता बालियान अपनी गाड़ी में राणा हाउस जाती दिखाई दी, इसके बाद भाजपा के बड़े नेताओं के बीच यह चर्चा बहुत आम  हो गई कि पिछले कुछ दिनों में डॉक्टर संजीव बालियान और कादिर राणा के बीच व्यापारिक रिश्ते भी बन गए हैं। एक बड़े बीजेपी नेता के मुताबिक ब्रज सिनेमा की ज़मीन के सौदे में दोनों राजनेताओं के बीच कारोबारी साझेदारी हो गयी है। उनका कहना है कि यह सौदा पहले से ही राणा परिवार के पास है और अब उसमे एक हिस्सा डॉक्टर बालियान ने भी अमित को आगे करके ले लिया है।

इस चर्चा को बल, तब और मिला जब सुजडू में भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी मीनाक्षी स्वरूप के पक्ष में बाकायदा ठप्पेबाजी की वीडियो वायरल हो गई। देखे वीडियो-

कादिर राणा के बूथ संख्या 232 पर जोकि  पूरी तरह मुस्लिम बाहुल्य है, वहां भी भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी को 137 वोट मिलने से इन चर्चाओं को और मजबूती मिली।

इन्हीं चर्चाओं के बीच ‘रॉयल बुलेटिन‘ ने केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान और पूर्व सांसद कादिर राणा से संपर्क किया तो डॉ बालियान से तो सम्पर्क नहीं हो पाया लेकिन कादिर राणा से विस्तार से बात हुई।  उन्होंने स्वीकार किया कि केंद्रीय मंत्री की पत्नी सुनीता बालियान ‘राणा हाउस’ आई थी। उन्होंने बताया कि वह मेरे आवास पर नहीं, मेरे बड़े भाई हाजी कमरुज्जमा राणा

जाट-राजपूत का नहीं कोई विवाद, कानून पर भरोस रखें पहलवानः संगीत सोम

उर्फ़ हाजी मलवा के आवास पर आई थी। कादिर ने बताया कि हाजी मलवा के परिवार की बेटियां और डॉक्टर संजीव बालियान की बेटियां देहरादून में साथ पढ़ती है, इसी के कारण सुनीता बालियान ‘राणा हाउस’ आई थी। 

अपने बूथ संख्या 232 पर भाजपा प्रत्याशी मीनाक्षी स्वरुप को 137 वोट मिलने पर कादिर राणा ने कहा- यह जनता का मन है कि वह किसको वोट दे रही है। उन्होंने डॉ संजीव बालियान से अपने कारोबारी रिश्ते को अस्वीकार करते हुए

मुजफ्फरनगर में पूर्व सांसद कादिर राणा बोले-100 साल तक कुछ ना करूं तब भी मेरे पास कोई कमी नहीं होगी !

, जो यह कयास लगाया जा रहा है कि वह डॉक्टर बालियान की राह आसान करने के लिए बसपा से चुनाव लड़ सकते हैं , उन्होंने कहा कि वह गठबंधन में है और गठबंधन से चुनाव लड़ने के लिए प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं चारों सदन में जा चुका हूं ऐसे में किसी दूसरे प्रत्याशी को जिताने के लिए आखिर मैं अपनी प्रतिष्ठा दांव पर क्यों लगाऊंगा ?

Related Articles

- Advertisement -

STAY CONNECTED

74,675FansLike
5,212FollowersFollow
33,332SubscribersSubscribe
- Advertisement -

ताज़ा समाचार

- Advertisement -

सर्वाधिक लोकप्रिय